फुटबॉल खेल का इतिहास और नियम | Football history and rules in hindi

नमस्कार दोस्तों, आप यहाँ फुटबॉल खेल का इतिहास, नियम और इसके बारे में कुछ रोचक तथ्य जानने वाले हैं जोकि इस खेल को एक विश्व प्रसिद्ध खेल बनाते है। फुटबॉल दुनिया का एकमात्र ऐसा खेल है जो दुनियाभर में सबसे ज्यादा जगहों पर खेला जाता है और इसी कारण इस खेल को दुनिया का लगभग हर देश देखता और खेलता है। फुटबॉल की बहुत अधिक लोकप्रियता को देख आप यहाँ फुटबॉल खेल का इतिहास और नियम: Football history and rules in hindi के बारे में बहुत ही सरल भाषा में जानेंगे। तो उम्मीद है कि आप इस आर्टिकल को अंत तक पढकर के इस खेल से जुडी रोचक जानकारी को जरूर पढेंगे।

football hindi

अनुक्रम

फुटबाल खेल का रोचक इतिहास: Football history in hindi  

इस लेख को ज्यादा लम्बा न खींचते हुए; हम फुटबॉल के शुरूआती इतिहास को सरल और आसान भाषा में समझते हैं। बता दें कि फुटबॉल का इतिहास प्रारम्भ से ही बहुत रोचक रहा है।

फुटबॉल शब्द की उत्पत्ति कैसे हुई? तो इसमें लोगों के अलग-अलग मत हैं। कुछ कहते हैं कि इसे पैरों से खेलते हैं। इसी कारण इसका फुट नाम पड़ा। लेकिन इसके वास्तविक स्त्रोत के बारे में पूर्ण-रूप से जानकरी नहीं हैं। लेकिन फीफा (FIFA) जोकि फुटबॉल के सभी प्रारूपों का संचालन करती है। उसका यह मानना है कि फुटबॉल एक चीनी खेल सूजु का ही विकसित रूप है। जो यह खेल चीन में ह्याँ वंश के दौरान खेला जाता था। और इसी प्रारूप को जापान से असुका वंशज शासन काल में कैमरी नाम से भी खेला जा रहा था।

फुटबॉल खेल शुरुआत से ही धीरे-धीरे पूरी दुनिया में फेलता रहा। जिसमें पंद्रहवीं सदी में इस प्रारूप का खेल स्कॉटलैंड में भी खेला जाता था। लेकिन इसका पूर्ण-रूप से विकास नहीं हुआ था। लम्बे अरसे के पश्चात फुटबॉल का उन्नीसवीं सताब्दी में पूर्ण-विकास देखनो को मिला। जिसे हम फुटबॉल का पुनर्जन्म भी कह सकते हैं। तो आप इससे अंदाजा लगा सकते हैं कि फुटबॉल खेल का इतिहास (Football history and rules in hindi) काफी रोचक रहे है। लेकिन आज फुटबॉल का खेल दुनियाभर मे सर-चड़कर देखा और खेले जाने वाला खेल बन चुका है।

भारत में फुटबॉल का इतिहास: Indian football history in hindi

यदि भारत में फुटबॉल के इतिहास की बात करें तो यह काफी रोचक है रहा है। जैसे कि आप जानते ही हैं कि भारत ब्रिटेन-शासन का उपनिवेश रहा है। इसी कारण ब्रिटेन की संस्कृतियाँ, कानून और खेलों की तर्ज पर भारत को फुटबॉल खेल की भी पहचान मिली। ब्रिटिश सैनिक इसे मनोरंजन के लिए खेला करते थे। अभी के समय भारत में पश्चिम बंगाल और पूर्वोत्तर राज्यों में फुटबॉल को बहुत अधिक पसंद और खेला जाता हैं। हाल के सालों में फुटबॉल का चलन भारत में अधिक देखने को मिला है। जिसमे मुख्य कारण इन्डियन सुपर लीग (Indian supar league) का है। जिसकी शुरुआत 21 अक्टूबर, 2013 को हुई थी। इस लीग की लोकप्रियता धीमे-धीमे भारतीय लोगों के बीच बढ रही है।

जैसे कि आप जानते हैं कि भारत में आज के समय में क्रिकेट को बहुत अधिक तबज्जो दी जाती है। इसी कारण भारत में अन्य खेल फीफे से पड़ जाते हैं। भारतीय लोग क्रिकेट के दीवाने हैं। लेकिन आपको पता होना चाहिए कि क्रिकेट की उत्पत्ती भी ब्रिटेन (यूनाइटेड किंगडम) से ही हुई थी क्योंकि फुटबॉल के अलावा बिर्टिश सैनिक भारत में क्रिकेट भी बहुत अधिक खेलते थे।

भारतीय फुटबॉल क्लब: Indian Football Club

भारत का पहला फुटबॉल क्लब का नाम डलहौजी क्लब था। जिसकी स्थापना ब्रिटिश शासन में सन 1880, कोलकाता में हुई थी। इसके बाद भारत में सन 1893 में भारतीय फुटबॉल संघ (Indian football federation) की भी स्थापना हुई। जिसका मुख्यालय कोलकाता में है।  लेकिन भारत में फुटबॉल का अभी के समय संचालन All India Football Federation करती है। जिसका स्थापना सन 1937 में हुई और जिसका मुख्यालय दिल्ली में है।

भारत का फीफा वर्ल्ड कप: India in FIFA world cup

यदि भारत के फुटबॉल को लेकर ओलिंपिक की बात करें, तो भारत ने पहली बार फुटबॉल के  लिए सन 1948 में ओलिंपिक में भाग लिया था। जो इंग्लैंड में हुआ था। हालाँकि भारत ओलिंपिक में अन्य खेलों में हिस्सा पहले से ही लेता आ रहा था। लेकिन भारत ने सन 1950 में  FIFA (Federation of International football association) वर्ल्डकप भी खेला था। भारत उस फीफा वर्ल्डकप में गलती से क्वालीफाई कर गया था। क्योंकि उस समय बहुत सी टामें बाहर हो गई थीं। बता दें उसके बाद भारत आज तक फीफा वर्ल्डकप में क्वालीफाई नहीं कर पाया है।

इसे भी जाने: दुनिया के सबसे बड़े टूर्नामेंट ओलंपिक का रोचक इतिहास?

फुटबॉल खेल के रोचक नियम: Football rules in hindi

जैसे कि आप जानते हैं कि प्रत्येक खेल में बहुत सारे नियम होते हैं। इसी प्रकार फुटबॉल के खेल में भी काफी नियम हैं, जो काफी रोचक हैं। लेकिन सबसे पहले यह जान ले कि आज के मॉडर्न टेक्नोलॉजी को देखते हुए, सभी प्रकार के खेलों के नियम बदलते भी रहते हैं। तो फुटबॉल में भी नये नियम जुड़ते और घटते रहते हैं। लेकिन हम यहाँ फुटबॉल के कुछ खाश नियमों के बारे में जानेंगे जो बहुत अधिक महत्वपूर्ण हैं।

  • फुटबॉल मैच में स्ट्राइकर (Striker) काम गोल करना होता है।
  • फुटबॉल मैच में डिफेंडर्स (Defenders) का काम विरोधी टीम के सदस्यों को गोल करने से रोकना होता है।
  • फुटबॉल मैच में मिड फील्डर्स (Mid fielders) का काम विरोधी टीम के खिलाडियों से बॉल छीनकर अपने खिलाडिओं को बॉल देना होता है।  

यह तो आप भली-भाँती जानते ही होंगे कि एक प्रोफेशनल फुटबॉल मैच दो टीमों के बीच खेला जाता है। फुटबॉल मैच के दौरान दोनों टीमों पास 11-11 खिलाड़ी मौजूद होते हैं। लेकिन इन 11 खिलाडियों में से एक गोल कीपर होता है। जो बॉल को गोल पोस्ट में जाने से रोकता है। बाकी के खिलाड़ियों का काम बॉल को गोल पोस्ट में पहुँचाने और रोकने का काम होता है।

football-rules-in-hindi

फुटबॉल का मैदान दो भागों में बंटा होता है। जिसमे एक टीम को दुसरे टीम के गोल पोस्ट में गोल दागना (करना) होता है। फुटबॉल एक 90 मिनट्स का खेल होता है। जिसमे 45-45 मिनट्स के दो हाफ होते हैं और इनके बीच एक 15 मिनट्स का मध्यांतर (Break) भी होता है। इन 90 मिनट्स में दोनों टीमों का एक ही मकसद होता है कि विपक्षी टीम के गोल पोस्ट में ज्यादा से ज्यादा से गोल करे। जिससे वो मैच को जीत सके। कभी-कभी मैच का परिणाम 90 मिनट्स में नहीं निकल पाता है। तो उसी टाइम में 30 मिनट्स एक्स्ट्रा टाइम जोड़ा जाता है। उस टाइम को इंजरी टाइम कहा जाता है और यदि इसके बाद भी मैच का नतीजा न निकले तो मैच पनेल्टी (Penalty) की ओर चला जाता है। जिसमे जो टीम ज्यादा पेनल्टी शूट कर देती है। उस टीम को विजेता टीम घोषित कर दिया जाता है।

फुटबॉल मैच में सब्सीट्यूसन: All substitutions in football match

फुटबॉल मैच के दौरान एक टीम किसी 3 खिलाड़ियों को सब्सीटयूट (Substitutions) कर सकती है। मतलब उन 3 खिलाडिओं को बदलकर किन्ही अन्य 3 खिलाडिओं को मैदान में ला सकती है। लेकिन इसकी लिमिट केवल 3 खिलाडी तक ही सीमित होती है।

फुटबॉल मैदान का आकार: Football field size

football-field-size-in-hindi

एक स्टैण्डर्ड फुटबॉल मैच में मैदान का आकार 90 मी0 लम्बा और 45 मी0 चौड़ा होता है। किसी भी मैच के दौरान बॉल को गोल पोस्ट में पहुंचाते समय सभी खिलाडी इसी आकार के अन्दर रह कर गोल करते हैं। यदि बॉल इन लाइन्स के बाहर चली जाती है। जोकी अधिकतर जाती है; तो उसे अंदर थ्रो इन,गोल किक, कार्नर किक के द्वारा मैदान के अंदर लाया जाता है।

फुटबॉल मैच में रेफरी: All Referee in football match

referee-in-football-match-hindi

फुटबॉल खेल बहुत ही तेजी के साथ खेला जाता है। एक मैच के दौरान कम से कम 3 रेफरी होते हैं। जिनमे पहला रेफरी मैदान में खिलाडिओं के बीच होता है। जोकि ऑफिसियल रेफरी होता है। जिसका काम खिलाड़िओं, फ्री किक, पेनल्टी और फाउल्स पर ध्यान रखना होता है। और वहीं किसी खिलाडी को इंजरी होती है तो वह मैच को बीच में तुरंत रोक भी सकता है। अन्य दो रेफरी जो लाइन्स मेन होते हैं। जिनका काम बॉल को लाइन्स के अंदर-बाहर देखना होता है। जिसमे वह बॉल को थ्रो इन (THROW IN), ऑफ साइड (OFF SIDES), कॉर्नर (CORNER) और गोल किक (GOAL KICK) पर ध्यान देते थे।

फुटबॉल मैच में किक्स क्या होती हैं? All football kicks in hindi

all-football-kick-in-hindi

किक ऑफ : जब मैच शुरू होता है तब पहली किक को किक ऑफ कहते है।

थ्रो-इन किक : मैच के दौरान जब बॉल मैदान के सीमा-रेखा के पार चली जाती है। तब बॉल अन्दर लाने पर विरोधी टीम को जो किक इनाम में मिलती है। उसे थ्रो-इन किक कहते है।

कोर्नर किक : मैच के दौरान जब खिलाडी बॉल को गोल पोस्ट में मरता है और बॉल गोल पोस्ट को पार कर मैदान के बाहर निकल जाती है। जिसके बाद बचाव करने वाले टीम बॉल को आखिरी बार छूने के कारण दूसरी टीम को मौका देती है। तो उसे किक को कॉर्नर किक कहते है।

गोल किक : जब बॉल विरोधी टीम के द्वारा गोल पोस्ट की रेखा के अंदर घुस जाती है।  तो उस किक को गोल किक कहते है।

डायरेक्ट फ्री किक : जब किसी विशेष फाउल के द्वारा बॉल मैदान की रेखा के बाहर निकल जाती है और खेल रुक जाता है। उसके बाद मिली किक को डायरेक्ट फ्री किक कहते है।

फुटबॉल मैच के दौरान पेनाल्टी: Football penalty in hindi

एक फुटबॉल मैच के दौरान खिलाडी बहुत सारी गलतियाँ कर रहे होते हैं। जिसमे मैच के ऑफिसियल रेफरी के पास कुछ अधिकार होते हैं। जिमसे रेफरी खिलाडिओं को मैच के दौरान ही सजा दे सकता है।

येलो कार्ड: Yellow Card in hindi

रेफरी येलो कार्ड किसी भी खिलाडी को जब देता है। जब कोई खिलाडी कोई छोटी गलती करता है। जिमसे कोई खिलाड़ी अन्य खिलाडी रोकता है या उसकी जर्सी को पकड़कर रोकने की कोशिश करता है। मतलब येलो कार्ड का उपयोग एक चेतवानी के समान होता है।

रेड कार्ड: Red Card in hindi

रेफरी रेड कार्ड का उपयोग बहुत ही सोच समझकर करता है। क्योकि रेड कार्ड पाने वाला खिलाडी खेल से बाहर हो जाता है। इस कार्ड का उपयोग रेफरी खिलाडिओं में धक्का-मुक्की, रेफरी पर अभद्र दिप्पणी और गोल पोस्ट में जाती बॉल को खिलाडी द्वारा हाथ से रोकने आदि के लिए दिया जाता है। फुटबॉल के नए नियमों के अनुसार ये दोनों कार्ड बाहर बैठे खेलते हुए टीम के कोच और मैनेजर को भी दिया जा सकता है।

पेनाल्टी शूट-आउट: Penalty shoot-out in hindi

जैसे कि हमने उपयुर्क्त लेख में भी बात की थी कि मैच का नतीजा न निकले तो पेनाल्टी शूट-आउट का उपयोग मैच के अंतिम परिणाम पाने के लिए किया जाता है।

यदि कोई लीग मैच हो तो मैच ड्रा पर ख़तम होता है और दोनों टीम को बराबर-बराबर पॉइंट्स बाँट दिए जाते हैं। और वहीं निर्णायक मुकाबले में मैच बराबर स्कोर पर छूटता है। तो इसके बाद मैच में पेनाल्टी शूट-आउट का उपयोग करके नतीजा निकाला जाता है।

पेनाल्टी किक: Penalty kick in hindi

यदि गोलकीपर की पोजीशन या डिफेंस करने वाली टीम कोई फ़ाउल मतलब गलती कर देती है। तो सजा के रूप में पेनाल्टी किक दी जाती है। जिसमे विपक्षी टीम को गोल करने का मौका मिला जाता है।

पेनाल्टी एरिया: Penalty area in hindi

यह एरिया गोल पोस्ट के सामने का एरिया होता है। यह एरिया सर्किल लाइन से पहचाना जा सकता है। यह गोलपोस्ट से 16.5 मी0 दूरी तक होता है। और इतनी ही दूरी से विपक्षी टीम को गोल करने का मौका दिया जाता है।

फुटबॉल में ऑफसाइड नियम: Offside rule of football in hindi

दोस्तों ये नियम फुटबॉल गेम में अपने आप में बहुत ही जटिल नियम है, क्योंकि ये नियम फुटबॉल के खेल में अपने साथ बहुत सारी विवाद ले कर के आता है।

इस नियम के अनुसार – एक खिलाडी ऑफसाइड पोजीशन में तब माना जाता है, जब वह पास देने के दौरान आखिरी डिफेंडर से आंगे निकल जाता है। ऑफ़साइड पोजीशन से बचने के लिए अटैकिंग प्लेयरों के हाथ और बाजुओं के अलावा उसका सारा शरीर दूसरी टीम के आखिरी डिफेंडर से पीछे या उसके बराबर होना चाहिए। यदि ऑफ़साइड पोजीशन में जाकर कोई खिलाडी फ़ाउल कर देता है। तो लाइन्स मेन रेफरी इसका फ्लैग उठाकर ऑफिसियल रेफरी की ओर इशारा कर देता है। इसके बाद मैच का ऑफिसियल रेफरी मैच को रोक कर सामने वाली टीम को फ्री किक मतलब विपक्षी टीम को गोल करने का मौका दे देता है।

तो दोस्तों , है न ये कमाल का खेल (Football history and rules in hindi), क्योंकि इन सभी नियमों से बच-बचाकर किसी खिलाडी के लिए गोल पोस्ट में गोल दागना बहुत कठिन कार्य बन जाता है।

फुटबॉल खेल के रोचक तथ्य: Football facts in hindi

football-facts-in-hindi

1 – फुटबॉल खेल का पहला फुटबॉल क्लब (First football club) शेफील्ड फुटबॉल क्लब था।  जिसकी स्थापना सन 1857 को इंग्लैंड में हुई थी।

2 – फुटबॉल ओलंपिक में सन 1908 में शामिल हुआ था। जोकी ओलंपिक का चौथा प्रारूप ही था और जो लंदन, इंग्लैंड में आयोजित हुआ था।

3 – अली देई (Ali Daei) ने अंतराष्ट्रीय स्तर पर फुटबॉल के 149 मैचों में सर्वाधिक गोल (109) किये हैं जोकि एक ईरानी खिलाड़ी है।

4 – फुटबॉल में पहला अंतराष्ट्रीय औपचारिक मैच इंग्लैंड और स्कॉटलैंड के बीच सन 1872 में खेला गया था।

5 – फुटबॉल दुनिया का सबसे लोकप्रिय खेल है। जिसे दुनिया का लगभग हर देश खेलता और देखता है।

6 – फीफा ने 2007 में एक सर्वे कराया। जिसमे फीफा ने पाया कि पूरे विश्व में 26 करोड़ से ज्यादा लोग फुटबॉल नियमित और संगठित रूप से खेलते है। यानिकि विश्व भर के 4% से अधिक लोग फुटबॉल नियमित खेलते हैं।

7 – आखिरी फुटबॉल विश्वकप जो रसिया (2018) में हुआ था। अब तक का किसी भी टूर्नामेंट का सबसे ज्यादा पोपुलर टूर्नामेंट बन चुका है।

8 – एक फुटबॉल मैच के दौरान किसी कारणवश (Injury) एक टीम के पास केवल 7 खिलाडी बचते हैं। तो सामने वाली टीम को विजेता घोषित कर दिया जाता है।

9 – फुटबॉल मैच के दौरान कोई भी खिलाडी अपने हाथों का उपयोग नहीं कर सकता है।

10 – यूनाइटेड स्टेट ऑफ़ अमेरिका और कनाडा में फुटबॉल को सॉकर (Soccer) कहा जाता है।

फीफा फुटबॉल वर्ल्ड कप: Fifa football world cup hindi

तो चलिए फीफा फुटबॉल वर्ल्डकप के बारे में भी जाने लेते हैं जो दुनिया का सबसे ज्यादा पॉपुलर टूर्नामेंट है। ये 4 वर्ष में एक बार आयोजित किया जाता है। और यह पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा देखा जाने वाला टूर्नामेंट भी बन जाता है। इसी कारण हर देश यह चाहता है कि हमें फीफा वर्ल्डकप (Fifa worldcup) कराने की मेजबानी मिल जाये। जिस देश को भी फीफा वर्ल्ड कप की मेजबानी मिल जाती है। तो उस देश में बहुत अधिक फुटबॉल प्रेमी पहुंचते है, जिससे कहीं न कहीं उस देश को आर्थिक तौर पर बहुत अधिक लाभ होता है।

fifa-football-worldcup-hindi

फीफा वर्ल्डकप की शुरुआत: Beginning of FIFA World cup

फीफा वर्ल्डकप का संचालन फीफा (Federation of international football association) करती है। जिसकी स्थापना 21मई, 1904 को फ्रांस की राजधानी पेरिस में हुई थी। फीफा (FIFA) का मुख्यालय ज्यूरिख, स्विट्जरलैंड मे है।

पहला फीफा विश्वकप सन 1930 को उरुग्वे देश में खेला गया था। उस विश्वकप में उरुग्वे ही विजेता टीम रही थी और अर्जेन्टीना उपविजेता टीम रही थी। अभी तक कुल 21 फीफा विश्वकप का आयोजन हो चुका है। सर्वाधिक बार फीफा फुटबॉल विश्वकप ब्राजील (5) ने जीता है। मिर्सोस्लेव क्लोस (Miroslav Klose) ने फीफा विश्वकप में सर्वाधिक गोल (16) किये है जोकी जर्मनी (Germany) देश के फुटबॉलर हैं।

फीफा विश्व कप में पुरुष्कार: All awards in fifa world cup

जैसे कि आप जानते ही हैं कि खेल के जितने भी टूर्नामेंट होते हैं। उनके सभी प्रारूपों में पुरुस्कार दिए जाते हैं। ठीक इसी प्रकार फीफा विश्वकप में कई सारे पुरुस्कार दिए जाते हैं।

गोल्डन बॉल: Golden Ball

गोल्डन बॉल विश्वकप में दर्शकों के द्वारा की गई वोटिंग के आधार पर दिया जाता है। जिसमे सिल्वर और ब्रोंज बॉल भी दिए जाते हैं। ये अवार्ड्स दर्शकों द्वारा दिए सर्वाधिक वोटों के द्वारा मतलब उस एक विश्वकप में सबसे चहेते खिलाडी को ही दिया जाता है।

गोल्डन बूट: Golden Boot

गोल्डन बूट उस खिलाड़ी को दिए जाते हैं। जो उस एक विश्व कप में सबसे ज्यादा गोल दागता है।

गोल्डन ग्लव्स: Golden Gloves

जैसे कि हम जानते ही हैं कि गोल कीपर की एक फुटबॉल मैच में बहुत अधिक इम्पोर्टेंस होती हैं। इसी कारण जिस भी गोल कीपर उस पार्टीकूलर विश्वकप में सबसे अच्छा प्रदर्शन होता है। उसे गोल्डन ग्लव्स दिए जाते हैं।

इन सभी पुरुस्कारों दौरान एक फीफा विश्व कप में कई और पुरुस्कार दिए जाते हैं। यदि आखिरी विश्वकप की बात करें, तो यह 2018 में आयोजित हुआ था। जिसका रूस में आयोजन हुआ था। जिसमे फ़्रांस विजेता रही और क्रोएशिया उपविजेता रही थी। गोल्डन बॉल लुका मोड्रिक(Luka Modric) (क्रोएशिया) को मिला। और गोल्डन बूट हैरी केन(Harry Kane) (6 गोल) को मिला जो इंग्लैंड की टीम से थे। गोल्डन ग्लव्स थिबौट कोर्टओस  (Thibaut Courtois) को मिले जो बेल्जियम से थे। बेस्ट यंग प्लेयर का अवार्ड क्यलियन मापे (Kylian Mbappe) को मिला जो फ़्रांस से थे।

सभी फीफा विश्वकप विजेता: List of all Fifa world cup winners hindi

TROPHIESPARTICIPATIONSTROPHIES
Brazil215
Germany194
Italy184
Argentina172
France152
Uruguay132
England151
Spain151

अगले फीफा विश्व कप: Upcoming fifa world cup

जैसेकि आप जानते ही हैं कि हर देश चाहता है कि फीफा विश्व कप की मेजबानी करे। अगले फीफा विश्व कप इस प्रकार हैं –

2022QatarAsia
2026USA/Canada/MexicoNorth America

तो बस दोस्तों, इस पोस्ट में इतना ही हम उम्मीद करते हैं कि आपने इस लेख से फुटबॉल के बारे में कुछ रोचक तथ्यों को जाना होगा। जिसमे हमने फुटबॉल खेल का इतिहास और नियम : Football history and rules in hindi के अलावा Indian football history in hindi, Fifa world cup in hindi को भी बहुत ही सरल भाषा में समझाने की कोशिश की है। यदि इस पोस्ट से सम्बन्धित आपका कोई सवाल या सुझाव हो, तो हमें नीचे कमेंट करके जरूर बताएँ।

This Post Has One Comment

  1. Neetu

    Sir all information is very nice
    But sir some missing
    Plz answer in detail’s🙏
    1.Golden Goal rule
    2.Sudden death rule

Leave a Reply